Thursday 8 September 2011

अवेयरनेस और इगो

अवेयरनेस क्या है ?इगो क्या है ?टी.वी.पर कनुप्रिया और ब्रह्मकुमारी शिवानी की बातचीत में और अच्छी तरह समझा .
अवेयरनेस का मतलब है कि जो भी हमारे भीतर चल रहा है हर वक्त उसपर नजर रहे.
इसी को द्रष्टा भाव में रहना कहते हैं ,पहले भी सीखा है कि साक्षी भाव में रहो.
इगो का मतलब है कि अपनी गलत पहचान को अपनी असली पहचान समझना . जैसे कि कोई डॉक्टर है ,उसके डाक्टरी के काम में कोई रुकावट आ जाये और वह परेशान हो जाये कि अब तो वह गया ,सब कुछ समाप्त हो गया.
पर डॉक्टर होना तो उसका एक रोल प्ले है .डॉक्टर का रोल प्ले करना है उसे, पर वैसे तो वह एक शुद्ध आत्मा है .डॉक्टरी के बारे में सब कुछ भूल कर भी असल में वह जो है ,वह तो हमेशा से ही है.उसे अपने असली रूप के बारे में हमेशा अवेयर रहना होगा तभी कोई भी रोल प्ले आसानी से शांत मन से कर सकेगा .रोल प्ले भी दिल से होना चाहिए,सिर्फ एक्टिंग की तरह नही और ऐसा तभी हो सकता है जब हम देखते रहें कि कैसे क्या कर रहे हैं.

2 comments:

  1. बहुत सुंदर विवेचन है जाग्रति और अहंकार का ...अर्थात डॉ होना इगो है यानि उसको समाज द्वारा दी गयी पहचान है जो उसकी वास्तविक पहचान नहीं है... साक्षी भाव में अपनी सही पहचान बनी रहती है, जिससे बाहर कुछ भी परिवर्तन होता रहे साधक की भीतरी मनोदशा एक सी रहती है.

    ReplyDelete
  2. सार्थक विवेचन ...इन दो शब्दों का अंतर इन्सान की पूरी सोच और समझ में अंतर ला सकता है ...आभार

    ReplyDelete