Monday 4 April 2011

ब्रह्मा विष्णु महेश

इन्सान ने अपनी रक्षा के लिये घर बनाये.छत बनाई.दरवाजे बनाये .तलवारें बनायीं.बंदूकें बनाईं.बम बनाये. तोपें बनाई.सैनिक बनाये .चौकीदार बनाये.सिपाही बनाये.इसी तरह इंसान ने ही मंदिर मस्जिद गुरुद्वारे चर्च भी बनाये.
अपने अपने भगवान भी बनाये.ईश्वर गाड अल्ला बनाये.ये सब भी अपनी रक्षा के लिये ही बनाने पड़े.अनाज फल फूल भी उसकी रक्षा के लिये ही हें .कपड़े बिस्तर तमाम फर्नीचर भीअपने अस्तित्व को बचाने के लिये ही बनाता है. अगर इन्सान के अंदर अपनी रक्षा की भावना हट जाये तो उसे फिर क्या चाहिये,फिर तो उसे ईश्वर भी नही चाहिये.
पर इन्सान के अंदर प्रेम की भावना भी है.मुख्यतःप्रेम उसे अपने बच्चे से होता है,उसकी रक्षा के लिये वह कुछ करने की शुरुआत करता है,और देखते ही देखते पूरी दुनिया बन जाती है.पर यही प्रेम की भावना कब दूसरे के लिये नफरत में बदल जाती है पता ही नही चलता.नफरत होते ही दुनिया नष्ट होनी भी शुरू हो जाती है.जिस दिन एक एटमबम गिरेगा ,ए़क साथ कई इन्सान दफन हो जायेंगे.अपनी ही रक्षा के सामान से इन्सान खुद अपना ही अस्तित्व मिटाने पर तुला हुआ है ,तो कैसा है ये प्रेम !कैसी है ये प्रेम की भावना! यही है ब्रह्मा विष्णु महेश की परिकल्पना!ब्रह्मा ने बनाया विष्णु ने रक्षा की और महेश ने नष्ट किया.बनना टिकना और खत्म होना हर पल यही चलता रहता है.

2 comments:

  1. यही तो हमारे तन व मन में भी हर पल हो रहा है शरीर में कोशिकाएं बन रही हैं टिकी हैं औए नष्ट हो रही हैं मन में विचार आते हैं जाते हैं कोई टिक जाता है.... लेकि कोई है जो न बना है न मिटेगा ...वही जानने योग्य है वही द्रष्टा है ...वही वास्तव में हम हैं...

    ReplyDelete
  2. बात तो सच है,तभी तो पता चलता है कि ऐसा था,और अब ऐसा है.

    ReplyDelete